“प्रशासक” व्यक्तित्व

(ISTJ-A / ISTJ-T)

मेरा अवलोकन यह है कि जब भी एक व्यक्ति किसी कर्तव्य के निर्वहन के लिए पर्याप्त पाया जाता है… वह कर्तव्य दो लोगों द्वारा बदतर ढंग से पूरा होता है, और अगर तीन या उससे अधिक लोग उस काम को पूरा करने के लिए लगाए जाएं, फिर तो उसके पूरे होने के आसार बहुत ही कम होते हैं।

George Washington

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग सबसे अधिक मात्रा में पाए जाते हैं, जो कि हमारी जनसंख्या का 13% हिस्सा है। ईमानदारी, व्यावहारिक तर्क और कर्तव्य के लिए अथक समर्पण उनकी विशेषताओं को परिभाषित करते हुए ऐसे गुण हैं जो उन्हें कई परिवारों का एक ज़रूरी अंग घोषित करती है, और परिवारों के साथ-साथ उन समूहों का भी जो परंपरा, नियम और मानकों को बनाये रखने के लिए काम करते हैं जैसे कि विधि कार्यालय, नियामक संस्थाएं और सैन्य बल। प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग अपने द्वारा किए गए कार्य की ज़िम्मेदारी अपने ऊपर लेना पसंद करते हैं और जो भी काम करते हैं उसमें गर्व महसूस करते हैं – प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग किसी लक्ष्य के लिए काम करते समय, अपना समय और ऊर्जा अपने पास बिलकुल भी बचाकर नहीं रखते और ज़रूरी काम को सटीकता और धैर्य के साथ पूरा करते हैं।

“प्रशासक” व्यक्तित्व (ISTJ-A / ISTJ-T)

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति पूर्वधारणाओं में विश्वास नहीं रखते बल्कि अपने वातावरण का ठीक से विश्लेषण कर, तथ्यों की जाँच करते हैं और फिर, वास्तविक क्रियाविधि का चयन करते हैं। प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति फालतू बातें नहीं करते और जब वे कोई फैसला ले लेते हैं, तो उनके लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अनिवार्य तथ्यों को वे दूसरों तक संचारित करते हैं, ये उम्मीद करते हुए कि दूसरे लोग स्थिति को तुरंत समझ लेंगे और उस पर काम करेंगे। प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग अनिश्चितता सहन नहीं कर पाते, लेकिन वे धैर्य को और भी अधिक तेज़ी से खो देते हैं अगर उनके द्वारा चुने हुए मार्ग पर अव्यावहारिक सिद्धांतों की चुनौती होती है, ख़ासकर तब जब वे छोटी-छोटी बारीकियों को नज़रअंदाज़ करते हैं- अगर चुनौतियां समय बर्बाद करने वाली बहस बन जाएं, जैसे-जैसे सीमारेखा पास आ रही होती है, प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग काफ़ी क्रोधित होने लगते हैं।

यदि आप अपनी प्रतिष्ठा का सम्मान करते हैं, तो अच्छी गुणवत्ता वालों के साथ सम्बन्ध बनाएं...

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति कहते हैं कि वे किसी काम को ज़रूर ही करेंगे, तो वे उसे पूरा करके दिखाते हैं, इसके लिए कोई भी कीमत चुका देते हैं और वे उन लोगों से आश्चर्यचकित रह जाते हैं जो लोग अपनी बात के पक्के नहीं रहते। आलस्य और बेईमानी से आप प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोगों के मन में अपनी बुरी तस्वीर बना सकते हैं। फलस्वरूप, प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति अक्सर अपना काम अकेले करना पसंद करते हैं, या कम से कम अनुक्रम द्वारा उनके अधिकार को स्पष्ट रूप से स्थापित करवाते हैं ताकि बहस या दूसरे की विश्वसनीयता पर चिंता किए बिना वे अपने उद्देश्यों को स्थापित कर, उन्हें पूरा कर सकें।.

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तियों के पास तेज़, तथ्य आधारित दिमाग होता है और किसी पर या किसी चीज़ पर निर्भरता बनाये रखने के बजाए ये स्वायत्तता और आत्मनिर्भरता ज़्यादा पसंद करते हैं। प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति दूसरों पर निर्भरता को अक्सर एक कमज़ोरी के रूप में देखते हैं, और उनके कर्तव्य के लिए जुनून, निर्भरता और त्रुटिहीन व्यक्तिगत अखंडता उन्हें ऐसे जाल में फसने से बचाती है।

व्यक्तिगत ईमानदारी की यह भावना प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तियों के व्यक्तित्व का एक ज़रूरी हिस्सा होती है, और यह उनके अपने दिमाग से बहुत परे की बात है – प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग स्थापित नियमों और लागत की परवाह किए बिना दिशा-निर्देशों का पालन करते हैं, वे अपनी गलतियों को बताते हैं और यह जानते हुए भी कि परिणाम कितने खतरनाक हो सकते हैं वे सच बोलते हैं। प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तियों के लिए, ईमानदारी भावनात्मक विचारों की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण है, और उनका स्पष्ट दृष्टिकोण दूसरों को उनके बारे में एक गलत धारणा दे सकता है कि प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तियों में भावनाएं नहीं होती और वह रोबोट की तरह होते हैं। ऐसे व्यक्तित्व वाले लोग अपनी भावनाओं और प्यार को आसानी से जता नहीं पाते लेकिन ऐसा सोचना कि वे संवेदनशील नहीं हैं या इससे भी बुरा कि उनमें सहानुभूति ही नहीं है, दुखदायी बात है।

...क्योंकि गलत संगत में होने से बेहतर है कि आप अकेले रहें

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति का समर्पण एक उत्कृष्ट गुणवत्ता है, जो इन व्यक्तित्व वाले लोगों को अपने सपनों को पूरा करने की अनुमति देता है, पर यह एक कमज़ोरी बन जाती है जब कम ईमानदार व्यक्ति इसका फ़ायदा उठाते हैं| प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोग स्थिरता और सुरक्षा की तलाश करते हैं क्योंकि वे मानते हैं कि एक क्रिया को बिना रुकावट चलाते रहना उनका कर्तव्य है और कई बार यह ऐसा भी पाते हैं कि उनके सहकर्मी और आस पास के कुछ ज़रूरी लोग अपने कर्तव्य उन पर डाल देते हैं यह जानते हुए कि वह हमेशा इसे पूरा करने में कुशल होंगे। प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्तित्व वाले लोगों की प्रवृत्ति अपना सुझाव अपने पास रखने की होती है और वे तथ्य द्वारा अपने आप को अभिव्यक्त करते हैं, पर नमूदार सबूत पूरी कहानी बताने में काफी समय लगा सकता है।

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति को यह याद रखना ज़रूरी है कि उनको अपना ध्यान रखना है – स्थिरता और दक्षता के लिए उनकी जिद्दी समर्पण वाला स्वभाव लंबे समय में उन लक्ष्यों के साथ समझौता कर सकता है क्योंकि दूसरे उन पर इस समय के लिए ज़्यादा निर्भर होते हैं, जो कि एक भावुक स्थिति बना सकता है जो कई सालों तक बिना अभिव्यक्ति के रह सकता है और तभी बाहर आ सकता है जब उसे ठीक करने का कोई उपाय न बचा हो। ऐसे व्यक्तित्व वाले लोग सहकर्मियों और जीवन साथी को ढूँढ सकते हैं जो उनकी दिल से प्रशंसा करे और उनके गुणों को सम्पूर्ण करे, जो चमक, स्पष्टता और निर्भरता को पसंद करे, प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति को यह पता चलेगा कि उनकी स्थिर भूमिका काफी संतोषजनक है, और वो एक ऐसे सिस्टम का हिस्सा हैं जो काम करता है।

प्रतीकात्मक तर्क में कुशल व्यक्ति जिनसे आप शायद परिचित हों

क्या आपको अधिक जानना है?