“वास्तुकार” व्यक्तित्व

(INTJ-A / INTJ-T)

शीर्ष पर होने वाला व्यक्ति अकेला होता है और सबसे नायाब एवं रणनीतिक रूप से सक्षम व्यक्तित्व होने से वास्तुविद् लोग यह सब बहुत अच्छी तरह से जानते हैं। वास्तुविद् जनसंख्या का केवल दो प्रतिशत हैं और इस प्रकार की व्यक्तित्व वाली महिलाएं विशेष रूप से दुर्लभ होती हैं, जो जनसंख्या के गठन का केवल 0.8 प्रतिशत हैं – यह अक्सर उनके लिए एक चुनौती होती हैं जो उन्हें समान विचारधारा वाले व्यक्तियों के समान देखते हैं, जो अपनी अथक बौद्धिकता को साथ रखने में सक्षम हैं और शतरंज की चालों सी शातिर होती हैं। वास्तुविद् व्यक्तित्व के लोग कल्पनाशील व्यक्तित्व के साथ ही निर्णायक, महत्वाकांक्षी तथापि निजी, आश्चर्यजनक रूप से उत्सुक होते हैं, लेकिन वे अपनी ऊर्जा गंवाते नहीं हैं।

सही रवैया हो तो आपको अपने लक्ष्य को प्राप्त करने से कोई भी नहीं रोक सकता

ज्ञान की एक प्राकृतिक प्यास के साथ जो उसके शुरूआती जीवन को दर्शाती है, वास्तुविद् को बच्चों के रूप में अक्सर ‘‘किताबी कीड़े’’ का खिताब दिया जाता है। जबकि उनके साथी उनके अपमान के इरादे से ऐसा करते हैं, परंतु वे इससे सच के करीब पाते हैं और इस विषय में भी गर्व करते हैं, वे अपने ज्ञान की व्यापकता और गहराई का आनंद लेते हैं। वास्तुविद् उसे साझा करने का आनंद लेते हैं जिसकी उन्हें अच्छी जानकारी होती है, उन्हें अपने चुने हुए विषयों में अपनी महारत पर विश्वास होता है, लेकिन ये व्यक्तित्व गपशप की तरह ‘‘अरूचिकर’’ विकर्षण पर राय साझा करने की तुलना में, अपने क्षेत्र में एक शानदार योजना पर डिज़ाइन और अमल करना पसंद करते हैं।

आप अपनी राय के हकदार नहीं हैं। आप अपने अवगत राय के हकदार हैं। कोई भी अनभिज्ञ होने का हकदार नहीं है।

Harlan Ellison

ज्यादातर पर्यवेक्षकों के लिए यह किसी विरोधाभास जैसा है,वास्तुविद् स्पष्ट अंतर्विरोधों के साथ रहने में सक्षम हैं, जो फिर भी एक विशुद्ध रूप से तर्कसंगत दृष्टिकोण द्वारा सही समझ बनाता है। उदाहरण के लिए, वास्तुविद् एक साथ सबसे आदर्शवादी और कटु निंदक के तौर पर दिखते हैं जो कि एक लगभग असंभव संघर्ष प्रतीत होता है। लेकिन इसकी वजह यह है कि वास्तुविद् व्यक्तित्व के लोगों का मानना है कि प्रयास, बुद्धि और विचार के साथ कुछ भी असंभव नहीं है जबकि उसी समय में वे यह भी मानते हैं कि जो लोग आलसी, अदूरदर्शी या स्वयंसेवी हैं वे वास्तव में शानदार परिणामों को प्राप्त करते हैं। फिर भी वास्तविकता की निंदक दृष्टि है वास्तुविदों की उस परिणाम प्राप्ति की रुचि को रोक नहीं सकती, जिसमें उन्हें अपने लिए प्रासंगिक होने का विश्वास हो।

“वास्तुकार” व्यक्तित्व (INTJ-A / INTJ-T)

Iसैद्धांतिक मामलों में, एक चट्टान की तरह खड़े रहना

वास्तुविद् व्यक्तित्व के लोग विकीर्ण आत्मविश्वास और रहस्य की चमक रखते हैं और उनकी व्यावहारिक टिप्पणियां, मूल विचार और भयंकर तर्क उन्हें संकल्प और व्यक्तित्व के बल के साथ परिवर्तन के माध्यम से सक्षम बनाने हेतु जोर देते हैं। कई बार ऐसा लगेगा कि वास्तुविद् लोग संपर्क में आने वाले हर विचार और प्रणाली को बिगाड़ने और बनाने पर तुले रहते हैं, और इस काम के लिए वे सटीकता की भावना और नैतिकता का आनंद भी लेते हैं। जिस किसी में भी वास्तुविद् व्यक्तियों के तौर-तरीकों को समझने की प्रतिभा नहीं है, या अइससे भी बुरा, उनमें कोई महत्वपूर्ण बात नहीं देखते, तुरंत और स्थायी रूप से उनके सम्मान के खो जाने की संभावना है।

नियम, सीमाएं और परंपराएं वास्तुविद् व्यक्तित्व के लिए अभिशाप हैं – सभी कुछ पूछताछ और पुनर्मूल्यांकन के लिए खुला होना चाहिए और यदि वे कोई रास्ता देखते हैं तो वास्तुविद् अक्सर अपने को तकनीकी रूप से बेहतर बनाने के लिए कभी-कभी वे असंवेदनशील और हमेशा अपरंपरागत तरीकों और विचारों को लागू करने का एकतरफा कार्य करते हैं।

इसे आवेग के रूप में गलत नहीं समझा जाता – वास्तुविद् तर्कसंगत रहने का प्रयास करते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि किसी लक्ष्य का अंत कितना आकर्षक हो सकता है और हर विचार चाहे वह आंतरिक रूप से उत्पन्न हो या बाहर की दुनिया में डूबा हुआ, उससे गुज़रना होगा कभी निष्ठुर और कभी वर्तमान के फिल्टर से ‘‘कि क्या यह काम करने जा रहा है’’। यह तंत्र सभी चीजों और सभी लोगों पर हर समय लागू होता है और यह प्रायः उस जगह होता है जहां वास्तुविद् प्रकार के व्यक्तित्व मुसीबत में होते हैं।

अकेले यात्रा के दौरान हम ज़्यादा विचारमग्न होते हैं

वास्तुविद् प्रतिभाशाली होते हैं और ज्ञान में विश्वास करते हैं, वे समझने के लिए समय लेते हैं लेकिन दुर्भाग्य से सामाजिक अनुबंध का उन विषयों में से एक होने की संभावना नहीं है। सच्चाई और गहराई के लिए उत्कृष्ट इच्छा रखने वाले व्यक्तित्व के लिए सफ़ेद झूठ और अगंभीर बात करना भी मुश्किल होता है लेकिन वास्तुविद तो कई सामाजिक रिवाजों को सर्वथा बेवकूफ़ाना ही मानते हैं। विडंबना यह है कि यह अक्सर उनके लिए सबसे अच्छा होता है जहां वे सहज रहते हैं – चकाचौंध से दूर, जहां वास्तुविदों में प्राकृतिक आत्मविश्वास के साथ वे सहज होकर काम करते हैं, इसी तरह के स्वभाव और रुचियों वाले लोगों से, प्यार से या अन्यथा लोगों को आकर्षित करने के लिए कार्य कर सकते हैं।

वास्तुविद् जीवन के माध्यम से स्थानांतरित करने की अपनी प्रवृत्ति को परिभाषित करते हैं, जैसे यह एक विशाल शतरंज बोर्ड हो। लगातार विचार और बुद्धि के साथ स्थानांतरण, हमेशा नई रणनीति और आकस्मिक योजना का आकलन करना, लगातार अपने साथियों को मात देने के क्रम में स्थिति पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए स्थानांतरित करने की अपनी स्वतंत्रता को और बढ़ाना। इसका अर्थ यह सुझाव देना बिल्कुल नहीं है कि वास्तुविद् विवेक के बिना कार्य करें, लेकिन कई अन्य प्रकार के, भावना पर अभिनय के लिए वास्तुविदों की अरूचि इस तरह लग सकती है और यह बताती है कि क्यों कई कल्पित खलनायक (गलत समझे जा रहे नायक) इस प्रकार के व्यक्तित्व पर मॉडलिंग कर रहे हैं।

वास्तुविद् जिनसे आप शायद परिचित हों

क्या आपको अधिक जानना है?