“वाद-विवाद करने वाला” व्यक्तित्व

(ENTP-A / ENTP-T)

असुरक्षित, स्वतंत्र विचारक सिद्धांतों का अनुसरण करें। विवाद के खतरों के सामने अपने विचारों को पेश करें। अपने मन की बात कहें और 'सनकी' कहे जाने की परवाह न करते हुए डरपोक कहे जाने के कलंक से बचें। जो मुद्दे आपको महत्वपूर्ण लगते हैं, उन पर अड़ जाएं तथा किसी भी कीमत पर उन लोगों में शामिल हों, जिनकी बात को महत्व दिया जाता है।

Thomas J. Watson

तर्ककर्ता व्यक्तित्व के लोग शैतान की सबसे अधिक वकालत करने वाले होते हैं, वह तर्क और विश्वासों के टुकड़े कर, सबके सामने हवा में उड़ाने की प्रक्रिया को अपनाते हैं। अधिक दृढ़ व्यक्तित्व के विपरीत, तर्ककर्ता किसी गंभीर उद्देश्य या रणनीतिक लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश में ऐसा नहीं करते, बल्कि उनके ऐसा करने की बड़ी साधारण सी वजह यह होती है कि वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें इसमें मजा आता है। मानसिक बहस की प्रक्रिया को तर्ककर्ताओं से अधिक कोई पसंद नहीं करता, क्योंकि इससे उन्हें बड़ी सहजता से अपनी त्वरित बुद्धि, संचित ज्ञान के व्यापक आधार का प्रयोग करने और अपनी बात को साबित करने के लिए विविध विचारों को जोड़ने का मौका मिलता है।

तर्ककर्ताओं के साथ एक अजीब मुकाबला पैदा होता है, क्योंकि वे बेहद ईमानदार होते हैं, लेकिन किसी ऐसी बात के लिए वे बिना थके बहस करते हैं, जिस पर वास्तव में उन्हें खुद भी विश्वास नहीं होता, फिर भी किसी सच्चाई पर, एक अलग नजरिए से बहस करने के लिए वे किसी अन्य की जगह ले लेते हैं।

शैतान के पक्षधर की भूमिका निभाने से तर्ककर्ता व्यक्तित्व वाले लोगों को दूसरों के तर्क के बारे में बेहतर समझ पाने के साथ-साथ विचारों का विरोध करने की बेहतर समझ विकसित करने में भी मदद मिलती है – क्योंकि तर्ककर्ता उनसे तर्क कर लेते हैं।

इस रणनीति को राजनयिक भूमिका वाले समूह में आपसी समझ रखने वाले व्यक्तित्व की तलाश के साथ भ्रमित नहीं करना चाहिए – तर्ककर्ता निरंतर ज्ञान की खोज करते रहते हैं, और इसे हासिल करने का इससे बेहतर तरीका क्या हो सकता है कि किसी विचार पर हर कोण से, हर तरफ से हमला किया जाए या उसकी रक्षा की जाए?

“वाद-विवाद करने वाला” व्यक्तित्व (ENTP-A / ENTP-T)

यहां कोई नियम नहीं हैं – हम कुछ हासिल करने के प्रयास में हैं!

तर्ककर्ता, उपेक्षित होने में विशेष प्रकार की खुशी पाते हैं, चिंतन के प्रचलित तरीके पर सवाल उठा कर और मौजूदा प्रणाली में नए सिरे से काम करने के लिए उन्हें अपरिवर्तनीय बना कर या चीजों को अस्थिर कर उन्हें बड़ी चतुराई से नई दिशाओं में धकेल कर मानसिक व्यायाम का आनंद लेते हैं। हालांकि, वे अपने सुझावों को वास्तव में लागू करने के लिए आवश्यक रोजमर्रा की यांत्रिकी के प्रबंधन से दुखी हो जाते हैं। तर्ककर्ता व्यक्तित्व के लोगों को मंथन और बड़ी सोच बहुत पसंद होती है, लेकिन वे हर कीमत पर "असंतोष वाले काम" को करने से बचना चाहते हैं। तर्ककर्ता कुल आबादी में केवल तीन प्रतिशत के आसपास हैं, जो सही है, क्योंकि इससे उन्हें मूल विचारों को बनाने और उसके बाद अन्य अनेक तुनक मिज़ाजी व्यक्तित्वों पर कार्यान्वयन और रखरखाव की जिम्मेदारी डाल कर पीछे हट जाने में सुविधा होती है।

तर्ककर्ताओं की 'बहस करने की क्षमता अप्रिय हो सकती है – जबकि, इसकी जरूरत होने पर अक्सर इसकी सराहना की जाती है, लेकिन अगर किसी बैठक में वे अपने मालिक से खुले तौर पर या हर बात पर प्रश्न करके, अन्य महत्वपूर्ण लोगों की बात से अलग विचार प्रकट करने के द्वारा, दूसरों के पैरों को कुचल देते हैं तो यह बुरी तरह से परास्त होकर ध्वस्त हो सकते हैं। तर्ककर्ताओं की जिदयुक्त ईमानदारी इसे और जटिल बना देती है, क्योंकि ऐसे लोग शब्दों को तोड़ते-मरोड़ते नहीं हैं और संवेदनशील या दयालु के रूप में देखे जाने की परवाह नहीं करते। एक जैसी सोच रखने वालों का तार्किक व्यक्तित्वों से अच्छी तरह से मेल हो जाता है, लेकिन अधिक संवेदनशील लोग और समाज, अक्सर संघर्ष से बचने, भावनाओं को प्राथमिकता देने, आराम देने, अप्रिय सत्य और कठोर समझदारी जैसे मामले पर सफेद झूठ को तरजीह देना पसंद करते हैं।

इससे तार्किकों को निराशा होती है, और वे दूसरों के विश्वासों पर सवाल उठाकर और उनकी भावनाओं को दरकिनार कर, अपने झगड़ालू आनंद में अक्सर अनजाने में कई पुलों को जला देते हैं। अन्य लोगों से उसी प्रकार का व्यवहार करना चाहिए जैसा व्यवहार वे अपने लिए चाहते हैं, तर्ककर्ताओं में मनाने की सहनशीलता बहुत कम होती है और वे लोगों द्वारा घुमा-फिरा कर पूछा जाना नापसंद करते हैं, खासकर तब जब किसी का पक्ष लेने के लिए कहा जाए। तर्ककर्ता व्यक्तित्व के लोग अपने दृष्टिकोण, विश्वास, ज्ञान और हास्य की गहरी समझ के लिए खुद को सम्मानित पाते हैं, लेकिन अक्सर गहरी दोस्ती और रोमांटिक संबंधों के आधार पर इन गुणों का उपयोग करने में परेशानी का अनुभव करते हैं।

कड़ी मेहनत जैसा प्रतीत होने के कारण मौका चूक जाता है

तर्ककर्ताओं को अपनी प्राकृतिक क्षमताओं को काम में लाने में अधिकांश लोगों की अपेक्षा अधिक मुश्किल होती है – जब वे प्रभारी होते हैं या कम से कम कोई अधिकार प्राप्त व्यक्ति उनकी बातों पर ध्यान देता है, तब उनकी बौद्धिक स्वतंत्रता और स्वतंत्र दृष्टिकोण काफी मूल्यवान होते हैं, लेकिन तर्ककर्ता व्यक्तित्व वाले लोगों को उस स्तर तक पहुंचने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है, जहां से उनकी बातों का अनुसरण किया जा सके।

एक बार अपना स्थान बना लेने के बाद, तर्ककर्ताओं को यह याद रखना चाहिए कि उनके विचारों को उपयोग किए जाने के लिए, उन्हें हमेशा टुकड़ों को इकट्ठा करने के लिए, दूसरों पर निर्भर रहने की जरूरत है – अगर वे आम सहमति बनाने की अपेक्षा तर्क में "जीत" पाने में अधिक समय लगाते हैं तो अक्सर वे पाएंगे कि उनके पास सफल होने के लिए आवश्यक समर्थन नहीं है। शैतान के तर्ककर्ता की भूमिका को अच्छी तरह निभाते हुए, इस प्रकार के व्यक्तित्व वाले लोगों को लग सकता है कि अधिक भावुक परिप्रेक्ष्य में समझना और तर्क व प्रगति के साथ विचार और बहस के लिए समझौता करना सबसे जटिल और पुरस्कृत बौद्धिक चुनौती है।

तर्ककर्ता जिनसे आप शायद परिचित हों

क्या आपको अधिक जानना है?